हार्मोन क्या होता है ? ( hormone kya hota hai ?)

0

हार्मोन क्या होता है ? ( hormone kya hota hai ?)
हार्मोन एक प्रकार का रसायन है जो शरीर में बनता है, जो रक्त के माध्यम से आपके अंगों और ऊतकों तक पहुंचता है। वे आपके शरीर में धीरे-धीरे कार्य करते हैं और शरीर की कई प्रक्रियाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हार्मोन शरीर की बुनियादी जरूरतों जैसे शरीर की वृद्धि, चयापचय ( Metabolism ) यौन गतिविधि, प्रजनन और दिमाग के विकास में योगदान करते हैं। हार्मोन आपके शरीर के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। हार्मोन की मात्रा में कमी भी आपके शरीर और कोशिकाओं में कई बड़े बदलावों के लिए जिम्मेदार होती है। यही कारण है कि हार्मोन का बहुत अधिक या बहुत कम होना आपके स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव डालता है। चलिए देखते हैं की शरीर में हार्मोन का क्या महत्व है |

हार्मोन क्या है ( Harmone kya hai )


हार्मोन शरीर में विशेष रासायनिक संदेशवाहक (chemical messenger ) होते हैं जो अंतःस्रावी ग्रंथियों (endocrine glands ) में बनते हैं। हार्मोन रक्त के माध्यम से हमारे शरीर के विभिन्न अंगों में जाकर इसे प्रभावित करते हैं। इसके साथ ही शरीर के प्रमुख शारीरिक कार्यों को नियंत्रित करें। हार्मोन शरीर में अंतःस्रावी ग्रंथियों (endocrine glands ) से स्रावित होते हैं। शरीर की मुख्य अंतःस्रावी ग्रंथियों के नाम निम्नलिखित हैं:

  1. हाइपोथैलेमस ( Hypothalamus ): हाइपोथैलेमस शरीर के तापमान, भूख, मनोदशा और अन्य ग्रंथियों से हार्मोन के निकलनेलिए जिम्मेदार है, इसके अलावा भी यह प्यास, नींद और सेक्स ड्राइव को नियंत्रित करता है।
  2. पैराथाइरॉइड (parathyroid): यह ग्रंथि शरीर में कैल्शियम की मात्रा को नियंत्रित करती है।
  3. थाइमस (thymus ): यह ग्रंथि अनुकूल प्रतिरक्षा प्रणाली ( Immune system ) के कामकाज और थाइमस की परिपक्वता और टी-कोशिकाओं के निर्माण में भूमिका निभाती है।
  4. अग्न्याशय(pancreas ): यह ग्रंथि इंसुलिन का उत्पादन करती है जो रक्त शर्करा ( Blood sugar ) के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करती है।
  5. थायरॉइड (thyroid ): थायरॉइड कैलोरी बर्निंग और हार्ट रेट से संबंधित हार्मोन पैदा करता है।
  6. अधिवृक्क (adrenal ): अधिवृक्क ग्रंथियां हार्मोन का उत्पादन करती हैं जो सेक्स ड्राइव और कोर्टिसोल, तनाव हार्मोन को नियंत्रित करती हैं।
  7. पिट्यूटरी (pituitary ): इसे “मास्टर नियंत्रण ग्रंथि” (master control gland )के रूप में माना जाता है, पिट्यूटरी ग्रंथि अन्य ग्रंथियों को नियंत्रित करती है और हार्मोन के विकास को ट्रिगर करती है।
  8. पीनियल (pineal ) : इसे थैलेमस भी कहा जाता है, यह ग्रंथि मेलाटोनिन के सेरोटोनिन डेरिवेटिव का उत्पादन करती है, जो नींद को प्रभावित करती है।
  9. अंडाशय (ovary ): यह केवल महिलाओं में पाया जाता है , यह एस्ट्रोजन, टेस्टोस्टेरोन और प्रोजेस्टेरोन, महिला सेक्स हार्मोन का स्राव करते हैं।
  10. टेस्ट्स : यह केवल पुरुषों में, वृषण पुरुष सेक्स हार्मोन (male sex hormone ) टेस्टोस्टेरोन और शुक्राणु ( sperm )का उत्पादन करते हैं।

ये ग्रंथियां शरीर के प्रमुख हार्मोन बनाने और उन्हें नियंत्रित करने के लिए मिलकर काम करती हैं।


हार्मोन के प्रमुख प्रकार: ( Types Of Harmon’s )


शरीर में कई प्रकार के हार्मोन होते हैं, लेकिन कुछ प्रकार शरीर के स्वास्थ्य और विकास में बड़ी भूमिका निभाते हैं। स्वस्थ शरीर के लिए जरूरी है की यह सभी हार्मोन सही तरह से काम करे |
महिलाओं के लिए, एस्ट्रोजन (या एस्ट्राडियोल) मुख्य सेक्स हार्मोन है। यह महिलाओं में यौवन के लिए जिम्मेदार है, गर्भावस्था के लिए शरीर और गर्भाशय को तैयार करता है और मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करता है। रजोनिवृत्ति (menopause ) के दौरान, एस्ट्रोजन के स्तर में परिवर्तन महिलाओं के अनुभव के कई असहज लक्षणों में से एक है।
प्रोजेस्टेरोन एस्ट्रोजन के समान है लेकिन इसे मुख्य सेक्स हार्मोन नहीं माना जाता है। एस्ट्रोजन की तरह, यह मासिक धर्म चक्र में सहायता करता है और गर्भावस्था में भूमिका निभाता है।
कोर्टिसोल को “तनाव हार्मोन” (stress hormones ) कहा जाता है क्योंकि यह शरीर को तनाव का सामना करने में मदद करता है। यह इस महत्वपूर्ण हार्मोन के कई कार्यों में से एक है।
मेलाटोनिन का स्तर पूरे दिन बदलता रहता है, अंधेरा होने के बाद बढ़ता है, जो नींद की प्रतिक्रिया को ट्रिगर करता है।
टेस्टोस्टेरोन पुरुषों में मुख्य सेक्स हार्मोन है। यह यौवन का कारण बनता है, हड्डियों के घनत्व को बढ़ाता है, चेहरे के बालों के विकास को ट्रिगर करता है और मांसपेशियों की वृद्धि और ताकत का कारण बनता है।

हार्मोन की कमी से होने वाली परेशानियां एवम उनका उपचार –
अगर रूखी त्वचा, वजन बढ़ना, नींद न आना या ज्यादा नींद आना, इनफर्टिलिटी आदि जैसी समस्याएं आपको घेर लेती हैं, तो बहुत संभव है कि इसका कारण हार्मोन का असंतुलन हो।
हार्मोनल असंतुलन के सामान्य लक्षण
वजन बढ़ना: स्वस्थ रहने के लिए स्वस्थ जीवनशैली जरूरी है, लेकिन यह बात सभी पर लागू नहीं होती। स्वस्थ जीवनशैली के बावजूद हार्मोनल असंतुलन से वजन बढ़ सकता है। ऐसे में बेहतर होगा कि प्रोसेस्ड फूड, चीनी और गेहूं से परहेज करें।
पेट की चर्बी में वृद्धि: जब अंतःस्रावी तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है, तो शरीर भविष्य के लिए वसा जमा करना शुरू कर देता है, जिससे पेट पर चर्बी बढ़ जाती है, जबकि शरीर थका हुआ रहता है।
सेक्स की इच्छा में कमी: इसकी शुरुआत नींद की कमी से होती है, क्योंकि बिना अच्छी नींद के सेक्स हार्मोन का उत्पादन कम होता है। यह हार्मोन में असंतुलन का एक महत्वपूर्ण लक्षण है।
थकान : हर समय थकान महसूस होने का मतलब है कि हार्मोन का संतुलन ठीक नहीं है। आप आहार में बदलाव लाएं, जैसे गेहूं और अनाज से दूर रहें। इससे बहुत फर्क पड़ेगा।
चिंता, चिड़चिड़ापन और अवसाद: मूड में बदलाव इस बात का संकेत है कि आप बहुत अधिक तनाव में हैं और अपना ख्याल नहीं रख रहे हैं, जिसके कारण हार्मोन असंतुलित हो रहे हैं। बेहतर होगा कि आप अपने लिए कुछ करें। स्वस्थ आहार, व्यायाम, योग को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं और आराम करें।
अनिद्रा और परेशान नींद: हार्मोन का असंतुलन नींद को बेहद प्रभावित करता है।
अत्यधिक पसीना आना: रात को पसीना और गर्म चमक महिलाओं में हार्मोनल परिवर्तन का संकेत है। अचानक तेज गर्मी और रात में पसीना आने का मतलब है हार्मोन में बदलाव हो रहा है। यह विशेष रूप से रजोनिवृत्ति के दौरान होता है, जब हार्मोन बहुत तेजी से बदलते हैं।
पाचन संबंधी समस्याएं:

तनाव के कारण हार्मोन में बदलाव से कई समस्याएं हो सकती हैं, जिनमें से पाचन से जुड़ी समस्या भी एक है. गैस, अपच या कब्ज की समस्या भी हार्मोन में बदलाव का संकेत हो सकती है। इसके अलावा सिर दर्द, बदन दर्द, कई मानसिक समस्याएं भी हार्मोंस में बदलाव के कारण होती हैं।
हार्मोन का संतुलन बनाए रखने के लिए क्या करें?
उच्च ओमेगा 6 पॉलीअनसेचुरेटेड वसा से बचें। हमारे शरीर को बहुत कम मात्रा में पॉलीअनसेचुरेटेड वसा की आवश्यकता होती है, लेकिन जब हम उनका अधिक मात्रा में सेवन करने लगते हैं, तो शरीर हार्मोन के उत्पादन के लिए उनका उपयोग करना शुरू कर देता है, जो स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है। मूंगफली, कैनोला, सोयाबीन आदि जैसे वनस्पति तेलों के उपयोग को कम करना बेहतर होगा। नारियल तेल, असली मक्खन, जैतून का तेल (बिना गर्म किए) और पशु वसा का प्रयोग करें।
-कैफीन की मात्रा कम करें। चाय और कॉफी सीमित मात्रा में ठीक है, लेकिन अत्यधिक मात्रा में कैफीन का अंतःस्रावी तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।
इस बात का ध्यान रखें कि विषाक्त पदार्थ शरीर में प्रवेश न करें। कीटनाशकों, प्लास्टिक और लेपित बर्तनों का उपयोग कम से कम करें, क्योंकि इनमें ऐसे रसायन होते हैं जो शरीर को हार्मोन बनाने वाले तत्वों का आभास देते हैं, जिसके कारण शरीर इन तत्वों से हार्मोन बनाना शुरू कर देता है और शरीर में प्राकृतिक और स्वस्थ हार्मोन के उत्पादन को रोक सकता है। तन। है। यदि आपके हार्मोन असंतुलित हैं या आप गर्भधारण करने में असमर्थ हैं, तो इन विषाक्त पदार्थों से दूर रहना बहुत जरूरी है। स्टील या कांच के बर्तनों का प्रयोग करें, नॉनस्टिक से दूर रहें और भंडारण के लिए प्लास्टिक का भी प्रयोग न करें।

अपने आहार में नारियल तेल को शामिल करें। यह हार्मोन को संतुलित करने में मदद करता है। यह वजन को भी नियंत्रित रखता है।
हल्का व्यायाम करें, क्योंकि बहुत अधिक व्यायाम समस्या को बढ़ा सकता है। योग और प्राणायाम करना बेहतर रहेगा। आप वॉकिंग और जॉगिंग भी कर सकते हैं।

  • हेल्दी डाइट लें। गाजर में एक अलग तरह का फाइबर होता है, जो शरीर से अतिरिक्त एस्ट्रोजन को हटाकर डिटॉक्सीफिकेशन में मदद करता है। गाजर खाएं, खासकर वे महिलाएं, जो पीएमएस (मासिक धर्म से पहले की समस्या) से परेशान हैं।
    ब्रोकोली, गोभी और फूलगोभी जैसी सब्जियां फाइटोन्यूट्रिएंट्स से भरपूर होती हैं, जो विषाक्त पदार्थों को नियंत्रित करती हैं और हार्मोन को संतुलित रखती हैं और कैंसर जैसी बीमारियों से भी बचाती हैं।
    अलसी भी बहुत सेहतमंद होती है। अपने दैनिक आहार में 2-3 चम्मच अलसी को शामिल करें।
    ग्रीन टी मेटाबॉलिज्म में सुधार करके फैट भी बर्न करती है। इसमें मौजूद थीनाइन नामक प्राकृतिक यौगिक हार्मोन के संतुलन को बनाए रखने में कारगर होता है।
    डार्क चॉकलेट मूड को बेहतर बनाकर डिप्रेशन को ठीक करती है। यह एंडोर्फिन हार्मोन के स्तर को बढ़ाता है और इसमें मौजूद कई अन्य तत्व भी फील-गुड की भावना को बढ़ाने वाले हार्मोन को बढ़ाकर डिप्रेशन को दूर करते हैं। रोजाना 1 इंच का ब्लॉक डार्क चॉकलेट खाएं।

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

ScienceShala
Logo
Register New Account
Reset Password